picture picture
November 29, 2011 Shayari 0 Comments 758 views

वक़्त जाया किया सोचते सोचते…


वक़्त जाया किया सोचते सोचते |
कुछ नहीं कर सका सोचते सोचते ||

मेरी मंजिल किनारे पे हँसती रही |
मैं भँवर में फँसा सोचते सोचते ||

राह सुनसान है और जंगल घने |
और मैं चल रहा सोचते सोचते ||

पास आने में वो हिचकिचाते रहे |
मैं भी आगे बढ़ा सोचते सोचते ||

मैंने दी जो बधाई उसे ईद की |
उसने भी कुछ कहा सोचते सोचते ||

मेरे दिल पे उसे लिखना था ख़ुद का नाम |
नाम मेरा लिखा सोचते सोचते ||

सब तो जाने कहाँ से कहाँ जा चुके |
और मैं रह गया सोचते सोचते ||

ज़िन्दगी की ग़ज़ल तो अधूरी रही |
इक सही क़ाफ़िया सोचते सोचते ||

लोग पढ़ – पढ़ के सारे परेशान हैं |
मैंने क्या लिख दिया सोचते सोचते ||

Be Sociable, Share!

Tags: ,

No Responses to “वक़्त जाया किया सोचते सोचते…”

Leave a Reply

Name

Mail (will not be published)

Website