picture picture
November 29, 2011 Shayari 2 Comments 924 views

अजनबी दोस्ती…


दर्द में कुछ कमी-सी लगती है
जिन्दगी अजनबी-सी लगती है

एतबारे वफ़ा अरे तौबा
दुश्मनी दोस्ती-सी लगती है

मेरी दीवानगी कोई देखे
धुप भी चांदनी-सी लगती है

सोंचता हूँ की मैं किधर जाऊँ
हर तरफ रौशनी-सी लगती है

आज की जिन्दगी अरे तौबा
मीर की सायरी सी लगती है

शाम-ऐ-हस्ती की लौ बहुत कम है
ये सहर आखरी-सी लगती है

जाने क्या बात हो गयी यारों
हर नजर अजनबी-सी लगती है
दोस्ती अजनबी-सी लगती है…….

Be Sociable, Share!

Tags: ,

2 Responses to “अजनबी दोस्ती…”

2 Comments

  1. amar says:

    Bahot hi badhiya hai sab poem muze sabhi ki swabhi pasand aai…bohot khub

Leave a Reply

Name

Mail (will not be published)

Website